नवरात्रि

Standard

॥जय माता दी॥

नवरात्रि   की ढेर सारी शुभकामनाए,

माता

सभी की मनोकामनाएँ पूर्ण करे। 

Pious Mantras of all nine days for faithful Devotees

१. शैलपुत्री २. ब्रह्मचारिणी ३. चन्द्रघण्टा ४. कूष्माण्डा ५. स्कन्दमाता ६. कात्यायनी ७. कालरात्रि ८. महागौरी ९. सिद्धिदात्री

1.शैलपुत्री
वन्दे वाञ्छितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखराम् ।
वृषारुढां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनी‍म् ॥

2. ब्रह्मचारिणी
दधाना करपद्‍माभ्यामक्षमालाकमण्डलू ।
देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा ॥

3. चन्द्रघण्टा
पिण्डजप्रवरारुढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता ।
प्रसादं तनुते मह्यां चन्द्रघण्टेति विश्रुता ॥

4. कूष्माण्डा
सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च ।
दधाना हस्तपद्‍माभ्यां कूष्माण्डा शुभदास्तु मे ॥

5. स्कन्दमाता
सिंहासनगतानित्यंपद्‍माश्रितकरद्वया।
शुभदास्तुसदादेवीस्कन्दमातायशस्विनी॥

6. कात्यायनी
चन्द्रहासोज्वलकराशार्दूलवरवाहना।
कात्यायनीशुभंदद्याद्देवीदानवघातिनी

7. कालरात्रि
एकवेणीजपाकर्णपूरानग्नाखरास्थिता।
लम्बोष्ठीकर्णिकाकर्णीतैलाभ्यक्तशरीरिणी॥
वामपादोल्लसल्लोहलताकण्टकभूषणा।
वर्धनमूर्धध्वजाकृष्णाकालरात्रिर्भयङ्करी॥

8. महागौरी
श्वेतेवृषेसमारुढाश्वेताम्बरधराशुचिः।
महागौरीशुभंदद्यान्महादेवप्रमोददा॥

9. सिद्धिदात्री
सिद्धगन्धर्वयक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि।
सेव्यमानासदाभूयात्सिद्धिदासिद्धिदायिनी॥

Jay Aadhya Shakti

http://youtu.be/dSO0S1Cl5Wg

Jaya Aadya Shakti Maa Jaya Aadya Shakti Akhand Brahmaand Neepavya Akhand Brahmaand Neepavya Padave Pandit Ma Om Jayo Jayo Ma Jagadambe

Dwitiya Bay Swarup Shivashakti Janu Maa Shivashakti Janu Brahma Ganapti Gaye Brahma Ganapti Gaye Har Gaaye Har Ma Om Jayo Jayo Ma Jagadambe

Tritiya Tran Swarup Tribhuvan Ma Betha Maa Tribhuvan Ma Betha Traya Thaki Taraveni Traya Thaki Taraveni Tu Taraveni Ma Om Jayo Jayo Ma Jagadambe

Chouthe Chatura Mahalaxmi Maa Sachara Char Vyapya Maa Sachara Char Vyapya Char Bhuja Cho Disha Char Bhuja Cho Disha Pragtya Dakshin Ma Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Panchame Panch Rushi Panchami Gunapadma Maa Panchami Gunapadma Panch Sahashtra Tya Sohiye Panch Sahashtra Tya Sohiye Panche Tatvo Ma Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Shashthi Tu Narayani Mahishasura Maryo Maa Mahishasura Maryo Naranari Na Rupe Naranari Na Rupe Vyapaya Sagadhe Ma Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Saptami Sapt Patal Sandhya Savitri Maa Sandhya Savitri Gau Ganga Gayatri Gau Ganga Gayatri Gauri Geeta Ma Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Ashthmi Ashtha Bhujao Ayi Ananda Maa Ayi Ananda Sunivar Munivar Janamya Sunivar Munivar Janamya Dev Daityo Ma Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Navmi Navkul Naag Seve Navadurga Maa Seve Navadurga Navratri Na Pujan Shivratri Na Archan Kidha Har Brahma Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Dashami Dash Avtaar Jay Vijyadashami Maa Jay Vijyadashami Rame Ram Ramadya Rame Ram Ramadya Ravan Roodyo Ma Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Ekadashi Agyarus Kaatyayani Kaama Maa Kaatyayani Kaama Kaam Durga Kalika Kaam Durga Kalika Shyama Ne Rama Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Barase Bala Roop Bahuchari Amba Maa Maa Bahuchari Amba Maa Batuk Bhairav Sohiye Kal Bhairav Sohiye Taara Chhe Tuja Maa Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Terase Tulja Roop Tume Taruni Mata Maa Tume Taruni Mata Brahma Vishnu Sadashiv Brahma Vishnu Sadashiv Gun Tara Gaata Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Choudse Choda Roop Chande Chamunda Maa Chande Chamunda Bhaav Bhakti Kayi Apo Chaturai Kayi Apo Singh Vahini Mata Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Puname Kumbha Bharyo Shambhaljo Karuna Maa Shambhaljo Karuna Vashist Deve Vakhania Markand Deve Vakhania Gayi Subh Kavita Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Sauvanta Sole Sattaavana Saulashe Baavisha Maa, Maa Saulashe Baavisha Maa, Sauvanta Sole Pragatyaan, Sauvanta Sole Pragatyaan, Revaa Ne Tire, Har Ganga Ne Tire Om Jayo Jayo Maa Jagadambe

Trambaavati Nagari Aaye Roopaavati Nagari, Maa Manchaavati Nagari, Sola Sahastra Traan Sohiye, Sola Sahastra Traan Sohiye, Kshamaa Karo Gauri, Maa Dayaa Karo Gauri, Om Jayo Jayo Maa Jagadambe

Shivashakti Ni Aarti Je Koyee Gaashe, Maa Je Bhaave Gaashe, Bhane Shivaananda Swaami Bhane Shivaananda Swaami Sukha Sampati Thaasshey Maa Kailaashe Jaashe Maa Ambaa Dukha Harashe Om Jayo Jayo Maa Jagadambe

Ekama Eka Swaroop, Antara Nava Darasho, Maa Antara Nava Darasho, Bholaa Bhoodar Ba Bhajataa, Maa Ambaa Ne Bhaajata, Bhavaa Saagar Tarasho, Om Jayo Jayo Maa Jagadambe

Bhava Na Jaanoo, Bhakti Na Jaanoo, Nava Jaanu Sevaa, Maa Nava Jaanu Sevaa, Vallabha Bhatta Ne Aapi, Sarva Jane Ne Aapi, Maa Charno Mi Sevaa, Om Jayo Jayo Maa Jagadambe

This entry was posted in Aarti.

About dhavalrajgeera

Physician who is providing free service to the needy since 1971. Rajendra M. Trivedi, M.D. who is Yoga East Medical Advisor www.yogaeast.net/index.htm http://www.yogaeast.net/index.htm Graduated in 1968 from B. J. Medical College, Amadavad, India. Post Graduate training in Neurological Surgery from Charles University in Czechoslovakia. 1969 - 71. and received Czechoslovakian Government Scholarship. Completed training at the Cambridge Hospital and Harvard University in Psychiatry. Rajendra M. trivedi is an Attending Psychiatrist at Baldpate Hospital. He is the Medical Director of CCA and Pain Center in Stoneham, MA where he has been serving the community since 1971 as a Physician. OTHER AFFILIATIONS: Lifer of APA - American Psychiatrist Association Senior Physician and Volunteer with Massachusetts Medical Society and a Deligate of the Middlesex District. www.massmed.org Patron member of AAPI - American Association of PHYSICIANS OF INDIA. LIFE MEMBER OF IMANE - Indian Medical Association of New England. Member of the Board of Advisors "SAHELI, Boston,MA. www.saheliboston.org/About1/A_Board Dr. Trivedi is working closely with the Perkin's School for the Blind. www.perkins.org. Dr. Trivedi is a Life member and Honorary Volunteer for the Fund Raising Contact for North America of BPA - Blind People Association of Amadavad, India. www.bpaindia.org Dr.Trivedi is the Medical Advisor for Yoga East since 1993. He is a Physician who started Health Screening and Consultation At Shri Dwarkami Clinic in Billerica, MA. https://www.dwarkamai.com/health-and-wellness

14 responses »


  1. Ambe Charan Kamal HaiN Tere..
    Ambe Charan Kamal HaiN Tere..

    Ham Haare Hai Janam-janam Ke,
    Ham Haare Hai Janam-janam Ke,
    Nis Din Dete Phere,
    Ambe Charan Kamal Hai Tere..
    Ambe Charan Kamal Hai Tere..
    Tu Dharti Jag Palan Karti,
    Ambar Ka Aadhaar Hai Tu,
    Sab Sukh Jhoote, Sab Dukh Jhoote,
    Is Jeewan Ka Saar Hai Tu,
    Tu Satyam Tu Shivam Sundram,
    Tu Satyam Tu Shivam Sundram,
    Ham Sab Chakkul Chitere…
    Ambe Charan Kamal HaiN Tere..
    Ambe Charan Kamal HaiN Tere..
    Ham Haare Hai Janam-janam Ke,
    Ham Haare Hai Janam-janam Ke,
    Nis Din Dete Phere,
    Ambe Charan Kamal Hai Tere..
    Ambe Charan Kamal Hai Tere..
    Hosh Mein Aansu, Bhool Mein Shardha,
    Antar Mein Le Kar Ujiyaare,
    Tere Mandir Mein Natmastak,
    Nabh Ke Suraj Chand Sitare,
    Hamne Teri Muskaano Mein,
    Dekhe Madhur Savere..
    Ambe Charan Kamal Hai Tere..
    Ambe Charan Kamal Hai Tere..
    Ham Haare Hai Janam-janam Ke,
    Ham Haare Hai Janam-janam Ke,
    Nis Din Dete Phere,
    Ambe Charan Kamal Hai Tere..
    Ambe Charan Kamal Hai Tere..
    Jai Jai Maa..jai Jai Maa.. jai Jai Maa.. Jai Jai Maa..
    jai Jai Maa..jai Jai Maa.. Jai Jai Maa..jai Jai Maa..
    jai Jai Maa..jai Jai Maa.. Jai Jai Maa..jai Jai Maa..
    jai Jai Maa..jai Jai Maa.. Jai Jai Maa..jai Jai Maa..
    jai Jai Maa.. Jai Jai Maa.. jai Jai Maa..jai Jai Maa..
    Jai Jai Maa..jai Jai Maa.. jai Maa.. Jai Jai Maa..jai Jai Maa..
    jai Jai Maa.. Jai Jai Maa..jai Jai Maa..jai Jai Maa..
    jai Jai Maa.. Jai Jai Maa..jai Jai Maa..jai Jai Maa..jai Jai Maa.. Jai Jai Maa..
    jai Jai Maa..jai Jai Maa.. Jai Jai Maa..jai Jai Maa..
    jai Jai Maa.. Jai Jai Maa..jai Jai Maa..jai Jai Maa..
    Jai Jai Maa..jai Jai Maa..jai Jai Maa..

  2. Nice Rajendrabhai… Jai Maa! We have all these Maa Bhajans by Jagjit Singh in our Bhajan Book in, I think Bhajan Sangrah Section. OM! – sudhir

    In Light & Life …. In Peace & Bliss ……… in Health & Wealth…. May Peace reign the earthlings!!!!!!! nirusudhir
    ________________________________________

  3. Navratra 1st Day- Maa Shailputri
    माँ दुर्गा अपने प्रथम स्वरूप में शैलपुत्री के रूप में जानी जाती हैं। पर्वतराज हिमालय के घर जन्म लेने के कारण इन्हें शैल पुत्री कहा गया। भगवती का वाहन बैल है। इनके दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल का पुष्प है। अपने पूर्व जन्म में ये सती नाम से प्रजापति दक्ष की पुत्री थी । इनका विवाह भगवान शंकर से हुआ था। पूर्वजन्म की भांति इस जन्म में भी यह भगवान शंकर की अर्द्धांगिनी बनीं। नव दुर्गाओं में शैलपुत्री दुर्गा का महत्त्व और शक्तियाँ अनन्त हैं। नवरात्रे – पूजन में प्रथम दिवस इन्हीं की पूजा व उपासना की जाती है।

  4. ब्रह्मचारिणी- माँ दुर्गा का दूसरा रूप ब्रह्मचारिणी है। माँ दुर्गा का यह रूप भक्तों और साधकों को अनंत कोटि फल प्रदान करने वाली है। इनकी उपासना से तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार और संयम की भावना जागृत होती है।

  5. नवरात्र के नौ दिन तक देवी दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। चन्द्रघण्टा- देवी दुर्गा का तीसरा रूप चन्द्रघण्टा के नाम से जाना जाता है। इनके मस्तक पर घंटे के आकार में चन्द्रमा सुशोभित होता है इसलिए इन्हें चन्द्रघण्टा कहा जाता है।
    इनके दस हाथ हैं जिनमें से दाहिने ओर के चार हाथों मे क्रमश: अभय मुद्रा, धनुष, बाण और कमल हैं और पांचवां हाथ उनके गले में स्थित माला पर है। इनके बाई ओर के हाथों मे क्रमश: कमण्डल, वायु मुद्रा, खड्ग, गदा और त्रिशूल हैं।
    गले मे फूलों का हार, कानों में सोने के आभूषण और सिर पर सोने का मुकुट है। इनका वाहन सिंह है। ये दुष्टों के दमन और विनाश के लिए हमेशा तत्पर रहती हैं इसलिए इनकी आराधना करने वाले पराक्रमी और निर्भय होते हैं।

  6. माँ का चौथा स्वरुप – कुष्मांडा

    सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च।
    दधाना हस्तपद्माभ्यां कूष्माण्डा शुभदास्तु मे॥

    भगवती दुर्गा के चौथे स्वरूप का नाम कूष्माण्डा है। अपनी मंद हंसी द्वारा अण्ड अर्थात् ब्रह्माण्ड को उत्पन्न करने के कारण इन्हें कूष्माण्डा देवी के नाम से अभिहित किया गया है। जब सृष्टि का अस्तित्व नहीं था। चारों ओर अंधकार ही अंधकार परिव्याप्त था। तब इन्हीं देवी ने अपने ईषत् हास्य से ब्रह्माण्ड की रचना की थी। अत: यही सृष्टि की आदि-स्वरूपा आदि शक्ति हैं। इनके पूर्व ब्रह्माण्ड का अस्तित्व था ही नहीं। इनकी आठ भुजाएं हैं। इनके सात हाथों में क्रमश: कमण्डल, धनुष बाण, कमल-पुष्प, अमृतपूर्ण कलश, चक्र तथा गदा हैं। आठवें हाथ में सभी सिद्धियों और निधियों को देने वाली जपमाला है। इनका वाहन सिंह है। नवरात्रे -पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरुप की ही उपासना की जाती है। इस दिन माँ कूष्माण्डा की उपासना से आयु, यश, बल, और स्वास्थ्य में वृद्धि होती है।

  7. Skanda Mata is worshipped on the fifth Day of Navratri. She had a son ‘Skandaa and holds him on her lap . She has three eyes and four hands; two hands hold lotuses while the other 2 hands respectively display defending and granting gestures. Its said, by the mercy of Skandmata, even the idiot becomes an ocean of knowledge. The great and legendary Sanskrit Scholar Kalidas created his two masterpieces works “Raghuvansh Maha Kavya” and “Meghdoot” by the grace of Skandmata. Mata is considered as a deity of fire. She rides on Lion.

  8. छठा स्वरुप – मां कात्यायनी
    कात्यायनौमुख पातुकां कां स्वाहास्वरूपणी।
    ललाटेविजया पातुपातुमालिनी नित्य संदरी॥
    मां कात्यायनी अमोद्य फलदायिनी हैं। इस दिन साधक का मन ‘आज्ञा चक्र’ में स्थित रहता है। यह मां सिंह पर सवार, चार भुजाओं वाली और सुसज्जित आभा मंडल वाली देवी हैं। इनके बाएं हाथ में कमल और तलवार व दाएं हाथ में स्वस्तिक और आशीर्वाद की मुद्रा है।
    ध्यान, जाप करने से आज्ञाचक्र जाग्रत होता है। इससे रोग, शोक, संताप, भय से मुक्ति मिलती है।

  9. कालरात्रि : मां दुर्गा का सातवां स्वरूप

    कालरात्रि : मां दुर्गा का सातवां स्वरूप … नाम से अभिव्यक्त होता है कि मां दुर्गा की यह सातवीं शक्ति कालरात्रि के नाम से जानी जाती है अर्थात जिनके शरीर का रंग घने अंधकार … इनका रूप भले ही भयंकर हो लेकिन यह सदैव शुभ फल देने वाली मां हैं।

  10. आठवां स्वरुप – माँ महागौरी

    श्वेते वृषे समारुढ़ा श्वेताम्बरधरा शुचिः
    महागौरी शुभं दद्यान्महादेवप्रमोददा
    माँ दुर्गा जी की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है। इनका वर्ण पूर्णतः गौर है। इस गौरता की उपमा शंख, चन्द्र और कुन्द के फ़ूल से दी गई है। इनके समस्त वस्त्र एवं आभूषण आदि भी श्वेत हैं। भगवती महागौरी बैल के पीठ पर विराजमान हैं। इनकी चार भुजाएँ हैं। इनके ऊपर के दाहिने हाथ में अभय-मुद्रा और नीचे के दाहिने हाथ में त्रिशूल है। ऊपर वाले बायें हाथ में डमरु और नीचे के बायें हाथ में वर-मुद्रा है। इनकी मुद्रा अत्यन्त शान्त है। दुर्गा पूजा के आठवें दिन महागौरी की उपासना का विधान है। इनकी शक्ति अमोघ और अत्यन्त फ़लदायिनी है। इनकी उपासना से पूर्वसंचित पाप भी विनष्ट हो जाते हैं। उपासक सभी प्रकार से पवित्र और अक्षय पुण्यों का अधिकारी हो जाता है।

  11. सिद्धिदात्री
    माँ दुर्गाजी की नौवीं शक्ति का नाम सिद्धिदात्री हैं। ये सभी प्रकार की सिद्धियों को देने वाली हैं। नवरात्र-पूजन के नौवें दिन इनकी उपासना की जाती है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s